Looking For Anything Specific?

Gam wali shayari in hindi for lovers

Gam wali shayari in hindi for lovers

 ❝मेरी शायरी के तरकश में इतने अल्फाज कहा,

​जितनी आपके चेहरे पर अदायें हैं।❜❜



❝मैनें उन तमाम लोगों से रिश्ता तोड़ दिया​,

​जो तुम्हें भूलने की सलाह दे रहे थे।❜❜



❝कौन कहता है वक्त बहुत तेज है,

कभी किसी का इंतजार करके देखो।❜❜



❝रास्ता सोचते रहने से, किधर बनता है,

सर में सौदा हो तो, दीवार में दर बनता है।❜❜



❝सोचते थे मिलेगा सुकून ऐ दिल उनसे मिलकर,

पर दर्द और बढ़ जाता है उन्हें देखने के बाद।❜❜



❝नहीं बसती किसी और की सूरत अब इन आँखो में,

काश कि हमने तुझे इतने गौर से ना देखा होता।❜❜



❝लफ्जों से इतना आशिकाना ठीक नहीं है ज़नाब,

किसी के दिल के पार हुए तो इल्जाम क़त्ल का लगेगा।❜❜



❝पसंद आ गए है कुछ लोगों का हम,

कुछ लोगों को ये बात पसंद नहीं आयी।❜❜



❝हिचकियाँ कहती हैं कि तुम याद करते हो,

पर बात नहीं करोगे तो एहसास कैसे होगा।❜❜



❝हर नज़र में मुमकिन नहीं है,बेगुनाह रहना,

कोशिश करता हूँ कि ख़ुद की नज़र में बेदाग रहूँ।❜❜



❝परायों को अपना बनाना उतना मुश्किल नहीं,​

​जितना अपनों को अपना बनाए रखना।❜❜



❝तेरे दिल का मेरे दिल से, रिश्ता अजीब है,​

​मीलों की दूरियां, और धड़कन करीब है।❜❜



❝आँखो की नजर से नही हम दिल की नजर से प्यार करते है,​

​आप दिखे या ना दिखे फिर भी हम आपका दीदार करते है।❜❜



मैं खुद हैरान हूं की तुझसे इतनी मोहब्बत क्यूं है मुझे,

जब भी प्यार शब्द आता है चेहरा तेरा ही याद आता हैं।



❝हम भी दरिया है, हमे अपना हुनर मालूम हे, 

जिस तरफ भी चल पडेंगे, रास्ता हो जायेगा।❜❜



❝रब करे मेरी यादों में तुम कुछ यूँ उलझ जाओ,

मैं तुमको यहाँ सोचूँ और तुम वहाँ समझ जाओ।❜❜



❝कोई कुछ कहता नही मुझसे आज कल,

​लगता है इश्क़ के मारे हम बेकार हो गए हैं।❜❜



❝बड़ी ही खूबसूरत शाम थी वो तेरे साथ की,

अब तक खुशबू नहीं गई मेरी कलाई से तेरे हाथ की।❜❜



❝ये ज़माना जल जायेगा किसी शोले की तरह,

जब मेरे हाथ की उँगली में तेरे नाम की अँगूठी होगी।❜❜



❝यूं ही ख़्यालों में चले आया करो, 

ना पकड़े जाने का खतरा, ना जाने की जल्दी।❜❜



❝वहाँ तक तो साथ चलो, जहाँ तक साथ मुमकिन है,

जहाँ हालात बदल जाएँ, वहाँ तुम भी बदल जाना।❜❜

    


❝खामोशीया कर दे बया तो अलग बात हे,

कुछ ददँ अेसे हे जो लफजो मे उतारे नही जाते।❜❜



❝तलब ऐसी कि सांसों में समा लूं तुझे,

किस्मत ऐसी कि देखने को मोहताज हूं तुझे।❜❜



❝मत हटाया करो लटो को गालों से यूँ,

सीधा सा दिल  मेरा बेईमान होने लगता हैं।❜❜



❝कुछ धुआँ भी है, थोड़ा शोर भी है,

सिर्फ इश्क़ ही क्यों, नशें और भीं हैं।❜❜

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ