matlabi shayari 2 line in hindi sad | मतलबी शायरी टू लाइन

 matlabi shayari 2 line in hindi sad| मतलबी शायरी टू लाइन 

जिनको समझा अपना मतलबी निकले सब
भरोसा मैं पहले जैसे किसी पर करूंगा नही अब
_________________________________________________________

स्वार्थी लोग तोहफे से ज्यादा देखते हैं उसकी कीमत,
बस आंखों के सामने नहीं फेंकते, यही होती है गनीमत।
_________________________________________________________

इस दुनिया में लोग आपकी उतनी ही बातें याद रखते हैं 
जितने में उसका स्वार्थ पूरा हो जाये।
_________________________________________________________

मेरी दोस्ती का उसने अच्छा सिला दिया,
मेरी मुशीबत मे उसने मुझको ही भुला दिया !
_________________________________________________________

मेरी आखो में तुम पढ़ना,
लफ्ज़ मतलबी होते है अक्सर
_________________________________________________________

घड़ा भी पहले अपनी प्यास बुझाता है,
कौन है यहां जो मतलबी नही है।
_________________________________________________________

हम वक्त गुजारने के लिए दोस्ती को नहीं रखते,
दोस्तों के साथ रहने के लिए वक्त गुजारते हैं !
_________________________________________________________

सच्चे मोहब्बत #करने वाले🍣 किसी #कोने की पहचान🤨 बन गये और मतलबी🤦 दिलों के मालिक हो
_________________________________________________________

किसी ने धुल क्या झोंकी मेरी आँखों में,
उनके चेहरे पहले से बेहतर नजर आने लगे !
_________________________________________________________

दिलों में मतलब और जुबान से प्यार करते हैं,
बहुत से लोग दुनिया में यही कारोबार करते हैं।
_________________________________________________________

इस मतलबी दुनिया में दोस्ती सिर्फ इक दिखावा है
तुझे भी धोखा मिलेगा ये मेरा दावा है
_________________________________________________________

कैसे कह दूँ इश्क मतलबी है उसका,
उसे मुझसे कोई फायदा भी तो नहीं है।
_________________________________________________________

पराये लोग वफादार नहीं तो क्या हुआ,
धोखेबाज लोग भी तो अपने ही होते है !
_________________________________________________________

सिखा दिया दुनिया🌏 ने मुझे #अपनों पे भी शक करना🤨 मेरी फ़ितरत में 🤢तो था गैरों पे #भरोसा करना
_________________________________________________________

ए मतलबी रिश्ते क्यों दोस्ती का नाम ख़राब कर रहा है तू,
जहाँ बस्ती है दिलों में दोस्ती, उस नगरी में क्या कर रहा है तू।
_________________________________________________________

Matlabi duniya shayari
मतलबी उन लोगो के लिए बनिए जो आपकी कदर नहीं करते,
उनके लिए नहीं जो आपकी कदर भी करते हैं और प्रेम भी।
_________________________________________________________

कैसे भरोसा करू गैरों के प्यार पर,
यहाँ अपने ही मजा लेते हैं अपनों की हार पर
_________________________________________________________

जिंदगी तो तभी बदल गयी थी,
जब वो लोग बदल गए जिन्हे हम अपनी जिंदगी मानते थे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ