Adult shayari in hindi - non veg shayari

 Adult shayari in hindi - non veg shayari

Adult shayari in hindi - non veg shayari

मजे आते है उस वक्त मुझे कमाल के
जब वो सोता है अपना मेरी उसमें डाल के
____________________________________________

Adult shayari in hindi - non veg shayari

लगातार घंटो तक करने के बाद जो बाहर आती मलाई है
मेरे यार ने वो भीं अपनी जीभ से चाट चाट कर खाई है
____________________________________________

Adult shayari in hindi - non veg shayari

मैं जब होऊं बोर अकेली मेरा ऐसे मन बहलाए वो
बांध कर मेरे हाथ पैर मेरी जीभ से सहलाए वो
____________________________________________

पुराने आशिक वफा तलाश करते थे,
आज के आशिक जगह तलाश करते है।
____________________________________________

तेज खोपडी..और सील पैक भो*सडी..
किस्मत वालो को ही मिलती हैं।
____________________________________________

इश्क में इसलिए भी धोखा खानें लगें हैं लोग ,
दिल की जगह छेद को चाहनें लगे हैं लोग।
____________________________________________

याद है वो सुहानी मुलाकात,
पहले हाथ मिलाया फिर दिल मिले,
फ़िर नंगे हुए और खूब हिले।
____________________________________________

हकीम - क्या परेशानी है .. ?
शायर मरीज - मैं बिस्तर पे कोई गजल नहीं लिख पाता, एक दो अल्फाज के बाद ही कलम स्याही फेंक देती है।😜
____________________________________________

उसने बजा दिया मेरा म्यूजिक बिना ढोल के,
दिल तोड़ दिया उसने आई हेट यू बोल के,
एक दिन वो जा रही थी मुझे बाई बोलके,
तो मैंने भी लं*ड दिखा दिया चैन खोल के।
____________________________________________

जिंदगी झंड है फिर भी  घमंड है
और तुम्हारे  ईगो से बड़ा मेरा लं*ड है।
____________________________________________

अगर आसमान तक मेरे हाथ जाते ,
अगर आसमान तक मेरे हाथ जाते ,
तो चाँद-तारे तोड़ना तो छोटी बात
हम परियों की गां*ड में भी उंगली कर आते।
____________________________________________

तूफान में कस्ती नहीं खोजी जाती,
ब्रा से पहले पैंटी नहीं खोली जाती,
वियाग्रा खाने में संकोच मत कर दोस्त,
क्योंकि जुबान और उंगली से लड़की नहीं चो*दी जाती।
____________________________________________

हर रोज बहक जाते हैं मेरे कदम, आने के लिये ,
ना जाने कितने फासले तय करने अभी बाकी है 
🤔 तेरी 🙋👈चु*त को पाने के लिये.....🙆
😝😜😝😜
____________________________________________

तुम मिंया खलीफा सी सुंदर, मैं Lexinton सा काला हूँ...
तुम लघु छिद्रधारी नारी, मैं लंबी लुल्ली वाला हूँ..🙂
😝😜😝😜
____________________________________________

मैं हूँ कठोर पत्थर जैसा, तुम फूलों सी सुकुमार प्रिये...
कब से चड्डी तनी मेरी, अब खोल भी सलवार प्रिये...😛
😝😜😝😜
____________________________________________

शोक हर चू*त की पालो..
लेकिन चू*त की आदत मत डालो..!!
____________________________________________

आओ कुछ खेलते हैं, 
तुम टाँग उठाओ हम पेलते हैं ।
😝😜😝😜 
____________________________________________

नाज न कर ए छोरी अपने बड़े बड़े आम pe
तेरे मम्मे अगर पूरे गोल हैं,
तो मेरे टट्टे भी फीफा की फुटबॉल हैं।
😝😜😝😜
____________________________________________

होनी को अनहोनी कर दे,
अनहोनी को होनी,
एक जगह जब जमा हो तीनों,
स्तन, लिंग और योनी।
😝😜😝😜
____________________________________________
मोहब्बत एक धौखा है 
.
.
चो*द-चा*द कर निकल लो 
मौका हैं.!!
😝😜😝😜
____________________________________________

जीता रहा मैं... दुनिया का कायदा नही देखा...

शीद्दत...से चु*त चो*दी है कभी फायदा नही देखा...!!
😝😜😝😜
____________________________________________

मन्नत के धागे बांधो या बांधो मुरादों की पर्ची,
वो देगी तभी जब होगी उसकी मर्जी।
😝😜😝😜
____________________________________________

आज का कुविचार-
वो तुम्हारी पसंद के कपड़े पहन कर किसी और के सामने उतारेगी।
____________________________________________

हमने उसकी मोह्बत में,
न जाने क्या से क्या लूटा दिया,
इतने मुट्ठ मारे की टोपा सुजा दिया,
वो हमें कमजोर समझती धीरे से मुस्कुराये,
और हमने  उनकी याद में फिर से हिला दिया।
😝😜😝😜
____________________________________________

किस कदर चु*दाई का
जूनून इस दीवाने में है...
कल ही जमानत हुई थी
आज फिर रं*डीखाने में है।
____________________________________________

ना पेशी होगी, ना गवाह होगा,
जो उलझेगा चु*त के चक्कर मे,
वो सिर्फ तबाह होगा।
____________________________________________

रंग न देखो लौ*ड़े का, चु*दाई पे दीजो ध्यान,
मोल करो तलवार का फटी रहन दो म्यान।
____________________________________________

पहले के गाने कितने डबल मीनिंग होते थे-
रोज-रोज तुम जो सनम “ऐसे करोगे”,
हम जो रूठ जाएँगे तो “हाथ मलोगे”👊🏻💦
____________________________________________

ना हम किसी के है ना कोई हमारा है,
सिंगलपन के आलम में हाथ ही सहारा है..!!

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ